किसान कानूनों को संसद में वापस लेने की तैयारी भाजपा ने राज्यसभा सांसदों के लिए जारी की व्हिप 

भारतीय जनता पार्टी ने राज्यसभा में अपने सांसदों के लिए व्हिप जारी की है। इसके तहत सभी से 29 नवंबर को अनिवार्य रूप से सदन में मौजूद रहने को कहा गया है। 

किसान कानूनों को संसद में वापस लेने की तैयारी भाजपा ने राज्यसभा सांसदों के लिए जारी की व्हिप 


नईदिल्ली। किसान कानूनों की वापसी पर जल्द ही संसद से भी मोहर लग सकती है। भारतीय जनता पार्टी ने राज्यसभा में अपने सांसदों के लिए व्हिप जारी की है। इसके तहत सभी से 29 नवंबर को अनिवार्य रूप से सदन में मौजूद रहने को कहा गया है। 
राजनैतिक विश्लेषकों का मानना है कि शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन 29 नवंबर को भाजपा तीनों कृषि कानूनों की वापसी की तैयारी कर रही है। इससे किसानों के आंदोलन की वापसी का रास्ता पूरी तरह से मजबूत हो जाएगा। इसी के लिए भाजपा ने व्हिप जारी की है। व्हिप में कहा गया है कि सोमवार को एक महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा होगी और इसे पास कराया जाएगा। 

प्रधानमंत्री ने पिछले सप्ताह किया ऐलान 
सरकार और किसानों के बीच इन कृषि कानूनों को लेकर एक साल से टकराव चल रहा था। किसान इनके विरोध में दिल्ली और अन्य प्रदेशों में धरने पर बैठे हुए हैं। इसके बाद पिछले सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन्हें वापस लेने का ऐलान किया था। हालांकि किसान अब भी संसद में कानून वापस करने और एमएसपी की ग्यारंटी पर कानून बनाने की मांग पर अड़े हुए हैं। ऐसे में सरकार तीनों कृषि कानूनों को संसद में भी वापस लेने की तैयारी कर रही है। 


चुनाव पर पड़ेगा असर 
एक साल से सरकार और किसानों के बीच चल रही रस्साकसी का सीधा असर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के आगामी चुनावी पर पड़ रहा था। किसान विशेष रूप से इन कानूनों का विरोध कर रहे थे। यूपी और पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले सरकार ने कानूनों को वापस लेकर किसानों को मनाने और राजनीतिक नुकसान से बचने की कोशिश की है।