केवल चिन्हिंत स्थानों पर ही होगा ओमीक्रॉन वेरीयेंट से संक्रमित मरीज़ का इलाज

केवल चिन्हिंत स्थानों पर ही होगा ओमीक्रॉन वेरीयेंट से संक्रमित मरीज़ का इलाज -अन्य कोरोना मरीजों से भी रखना होगा अलग  -  केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने राज्यों को दिए निर्देश 

केवल चिन्हिंत स्थानों पर ही होगा ओमीक्रॉन वेरीयेंट से संक्रमित मरीज़ का इलाज


-अन्य कोरोना मरीजों से भी रखना होगा अलग  -  केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने राज्यों को दिए निर्देश 


नईदिल्ली। ओमीक्रॉन वेरीयेंट से संक्रमित मरीजों का इलाज अलग आइसोलेशन क्षेत्र बनाकर संस्थागत तौर पर ही किया जाएगा। यह निर्देश केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय ने सभी राज्यों को जारी किए हैं। निर्देश में कहा कि जिन मरीजों में ओमीक्रॉन वेरीयेंट की पुष्टि होती है, उन्हें अन्य कोविड संक्रमित मरीजों से भी अलग रखकर इलाज दिया जाए। 
स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों को यह सुनिश्चित करने का भी आदेश दिया कि, सभी मामलों में ओमाइक्रोन के लिए टेस्ट उपरांत सेम्पल भेजे जाएं। संक्रमण की पुष्टि होने तक भी प्रोटोकॉल का पालन हो। राज्यों को मिशन मोड पर पॉजीटिव मामलों के प्राथमिक और माध्यमिक संपर्कों को जल्दी से ट्रैक करने और उनका परीक्षण करने के लिए भी कहा गया है। संक्रमण की पुष्टि होने पर इलाज एक अलग आइसोलेशन क्षेत्र के साथ, केवल नए संस्करण वाले रोगियों के लिए चिह्नित संस्था में ही हो। राज्य के स्वास्थ्य विभागों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि कोई क्रॉस संक्रमण न हो। मंत्रालय के स्वास्थ्य सचिव ने निर्देशित किया है कि अन्य रोगियों के बीच संचरण को रोकने के लिए पर्याप्त सावधानी बरती जाए। 


संपर्क की ट्रैकिंग बहुत जरूरी 
स्वास्थ्य सचिव ने एक पत्र में कहा, 'ऐसे मामलों के सभी संपर्कों को ट्रैक करना, उन्हें बिना देरी किए अलग करना और परीक्षण करना महत्वपूर्ण है। राज्य ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन का उपयोग कर सकते हैं। प्लेटफॉर्म, कॉल सेंटर, और होम आइसोलेशन और क्वारंटाइन के तहत संपर्कों के लिए विशेष टीमों द्वारा घर के दौरे की योजना बनाएं।'