पुलिस आरक्षक द्वारा संचालित निजी कोचिंग को लेकर मचा हंगामा - विद्यार्थियों ने कहा झूठा प्रकरण करवा रहा दर्ज  -दूसरे पक्ष ने कहा एफआईआर नहीं तो सफाई बंद 

पुलिस आरक्षक द्वारा संचालित निजी कोचिंग को लेकर मचा हंगामा - विद्यार्थियों ने कहा झूठा प्रकरण करवा रहा दर्ज  -दूसरे पक्ष ने कहा एफआईआर नहीं तो सफाई बंद 

पुलिस आरक्षक द्वारा संचालित निजी कोचिंग को लेकर मचा हंगामा   - विद्यार्थियों ने कहा  झूठा प्रकरण करवा रहा दर्ज  -दूसरे पक्ष   ने कहा एफआईआर नहीं तो सफाई बंद 


रतलाम। पुलिस आरक्षक द्वारा चलाई जा रही निजी कोचिंग संस्थान से दूसरे संस्थान पर जाने वाले विद्यार्थियों को आरक्षक द्वारा धमकाने और अन्य कोचिंग के शिक्षकों पर झूठे आरोप लगाने का मामला सामने आया है। इस विषय को लेकर सोमवार को दर्जनों विद्यार्थी एबीवीपी के पदाधिकारियों सहित एसपी आॅफिस पहुंचे। यहां विद्यार्थियों ने धरना दिया और नारेबाजी भी की। एएसपी को पुलिस आरक्षक के खिलाफ ज्ञापन देकर पूरे मामले की जांच की भी मांग की। इसी मामले में शाम को वाल्मिकी समाज दूसरे पक्ष की ओर से एसपी आॅफिस पहुंचा और महिला की शिकायत पर एफआईआर दर्ज करने की मांग की। उन्होंने चेतावनी भी दी कि यदि तत्काल एफआईआर दर्ज नहीं किया गया तो शहर में सफाई व्यवस्था बंद कर दी जाएगी। 


ज्ञापन में विद्यार्थियों ने बताया कि पुलिस आरक्षक धमेंद्र सिंह द्वारा टार्गेट पोइंट नाम से प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करवाने के लिए कोचिंग प्रारंभ की गई थी। इसमें रोशन, राहुल, गायत्री, ममता नामक शिक्षकों द्वारा पढ़ाया जाता था। कुछ दिनों बाद रोशन, राहुल, गायत्री ने अलग कोचिंग संस्थान खोल लिया। इससे अधिकांश बच्चे उस कोचिंग में पढ़ने लगे। इसपर धमेंद्र सिंह ने पहले तो विद्यार्थियों के घर आकर, उन्हें तथा परिवार को समझाया लेकिन तब भी बच्चों को नहीं लौटने पर रास्ते में समझाने के साथ कुछ को धमकाया भी गया। पहले 600 रुपए की जगह फीस कम करके 300 रुपए का लालच भी दिया गया। इसके बाद धमेंद्र सिंह के कहने पर ममता द्वारा राहुल, रोशन और गायत्री के खिलाफ झूठा प्रकरण दर्ज करवाया गया। विद्यार्थियों की शिकायत सुनकर एएसपी इंद्रजीत बाकलवार ने पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करवाने का आश्वासन दिया। 

महिला के समर्थन में उतरा वाल्मिकी समाज, कहा बंद कर देंगे सफाई


दूसरी ओर आदर्श वाल्मीकि पंचायत, भीम सेना, युवजन समाज आदि ने भी शाम को प्रदर्शन किया। संगठनों ने एबीवीपी के साथ आए विद्यार्थियों से उलट पुलिस के सामने महिला द्वारा छेड़छाड़ की शिकायत करने के बावजूद प्रकरण दर्ज नहीं होने पर आक्रोश जाहिर किया। शहर पटेल विजय खरे, भीम सेना प्रदेश अध्यक्ष तेजपाल सोलंकी, जिला अध्यक्ष अमर चौहान, यशवंत फतारोड, रवि चनाल आदि के साथ बड़ी संख्या में समाजजन एसपी आॅफिस पंहुचे। उन्होंने ज्ञापन देते हुए कहा कि एजेके थाने में पीड़ित वाल्मीकि समाज की युवती ने छेड़छाड़ कर जान से मारने की धमकी देने और जाति सूचक शब्दों से अपमानित करने की शिकायत की। इसके बावजूद एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। विद्यार्थियों के नाम पर राजनीतिक दवाब बनाकर आरोपियों को बचाने की कोशिश की जा रही है। इसके विरोध में अगर तत्काल एफआईआर दर्ज नहीं हुई तो शहर में सफाई व्यवस्था बंद कर दी जाएगी।