मैजिक से उतरे कलेक्टर-एसपी, देखकर दंग रहे गए शहरवासी ! 

मैजिक से उतरे कलेक्टर-एसपी, देखकर दंग रहे गए शहरवासी !  -अधिकारियों ने बिना मास्क लोगों पर कार्रवाई का निकाला अनोखा तरीका -मैजिक में बैठकर सामान्य लोगों की तरह पहुंचे अधिकारी, अचानक कार्रवाई देख चौकते रहे लोग 


-अधिकारियों ने बिना मास्क लोगों पर कार्रवाई का निकाला अनोखा तरीका

-मैजिक में बैठकर सामान्य लोगों की तरह पहुंचे अधिकारी, अचानक कार्रवाई देख चौकते रहे लोग 

रतलाम। शहर में लोग दंग रह गए जब सामान्य रोज चलने वाली मैजिक से कलेक्टर, एसपी, एसडीएम, सीएसपी जैसे अधिकारी उतरे। लोग कुछ समझ पाते इसके पहले पीछे आ रही टीमों ने अधिकारियों के इशारे पर बिना मास्क घूमने वालों को रोक कर चालान काटना शुरु किया। कार्रवाई देखते ही लोग भागने लगे, कुछ गले में लटका, जेबों में रखा मास्क निकालकर लगाने लगे। 
ये नजारा रविवार दोपहर 12.55 मिनट पर न्यूरोड का था। कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम, एसपी गौरव तिवारी पहली बार मैजिक में बैठकर शहर भ्रमण पर निकले।  
उनके साथ उन्हीं की मैजिक में एसडीएम अभिषेक गेहलोत, सीएसपी हेमंत चौहान भी थे। पीछे मैजिक में तहसीलदार गोपाल सोनी, निगम इंजीनियर एपी सिंह और अन्य अधिकारी थे। इनके पीछे खुली जेल में लोगों को ले जाने के लिए पुलिस का वाहन पीछे चल रहा था। कार्रवाई के दौरान न्यूरोड, लोकेंद्र टॉकीज चौराहे, एमसीएच रोड होते हुए सैलाना बस स्टैंड चौराहा, पॉवर हाउस रोड, दोबत्ती चौराहा, स्टेशन रोड, दिलबहार चौराहा होते हुए मदीन मस्जिद रोड, फव्वारा चौक, बस स्टैंड तक हुई। दोबत्ती चौराहे से नगर निगम आयुक्त सोमनाथ झारिया भी उसी मैजिक में सवार हो गए। 


दौड़ते, छुपते, भागते रहे लोग 
पूरे रूट पर जगह-जगह मैजिक अचानक रुकती, अधिकारी दनदनाकर उतरते और बिना मास्क लगाए बैठे दुकान संचालकों की दुकानें सील करवाते। पीछे आती टीमें सड़क बिना मास्क घूम रहे लोगों को रोककर चालान काटते। कई लोगों को इस दौरान खुली जेल में ले जाने के लिए वाहनों में बैठाया गया। इस दौरान कई लोग दूर से ही टीम को देखकर मास्क लगाते रहे, तो कुछ यू टर्न मारकर या वाहन तेज भगाकर भाग निकले। कुछ ने बहस भी की। 


23 दुकानें सील, 200 से ज्यादा का कटा चालान 

कार्रवाई के दौरान न्यूरोड से बस स्टैंड तक करीब 23 दुकानें 24 से 48 घंटे के लिए सील कर दी गई। इसके साथ ही संचालकों पर 2-2 हजार रुपए का चालान और धारा 188 के तहत कार्रवाई भी की गई। सील की गई दुकानों में बालाजी रेस्टोरेंट, न्यूरोड स्थित मेडिकल, गुरु नानक बैकरी, एमसीएच रोड पर संचालित 4 गैरेज, एक मेडिकल, न्यू रोड पर दुकानें, पावर हाउस रोड पर 3 दुकानें, दोबत्ती चौराहे पर 2 दुकानें, स्टेशन रोड, दिलबहार चौराहा- फव्वारा चौक पर संचालित गैरेज, दुकानें, बस स्टैंड पर दुकानें शामिल हैं। इस दौरान कर्मचारियों, ग्राहकों के अलावा सड़क से गुजर रहे लोगों को भी रोककर कार्रवाई की गई। करीब 200 से भी अधिक चालान डेढ घंटे में बनाए गए। 


कहीं सख्ती, कहीं नरमी भी दिखी
अधिकारियों और टीमों ने बालाजी रेस्टोरेंट, सैलाना बस स्टैंड पर नाश्ते की दुकान पर भी कार्रवाई की और इन्हें सील करवाया गया। संचालकों का तर्क था कि नाश्ता पोइंट होने से लोग यहां मास्क नहीं लगाते हैं। हालांकि अधिकारियों ने कहा कि ऐसे लोग अधिक हैं, जो नाश्ता बना रहे थे, काम कर रहे थे और मास्क नहीं लगाया था। इसी तरह दोबत्ती पर घड़ी की दुकान के वृद्ध संचालक ने बहस करते हुए कहा कि दुकान में कोई नहीं था इसलिए वे बिना मास्क के बैठे थे। परंतु अधिकारियों ने दुकान एक दिन के सील कर दी। हालांकि दिल बहार चौराहे पर ठेले पर फल बेचने वाला बिना मास्क के दिखा तो निगम की टीम उसका भी 1000 रुपए का चालान काटने पहुंची। लेकिन सीएसपी हेमंत चौहान ने टीम से कहा कि इतना गरीब की आमदनी नहीं होगी। उसे सबक सिखाना है, इसलिए 100 रुपए का चालान काटा जाए। इसके बाद बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन पर दिखे गरीब, मजदूरों पर भी कार्रवाई के बजाय सीएसपी और एसडीएम ने उन्हें मास्क दिलवाए और अनिवार्य रूप से हमेशा लगाने की समझाईश दी।